Thursday, January 9, 2014

खूबसूरती दिल की...



खूबसूरती कभी शब्दों की मोहताज नहीं होती,
पर उसकी तारीफ़ के लिए भी अल्फाजों की ज़रुरत होती है...
ये नहीं कहती की बेइन्तेहां खूबसूरत हूँ मैं,
पर इस दिल की भी तो कोई औकात होती है...
कोई कह दे जाकर खूबसूरती के सौदागरों से,
खरीदना ही है तो एक दिल खरीद के दिखाओ...
वादा है, जेब खाली हो जाएगी क्यूंकि,
इस दिल की कीमत मर कर भी अनमोल होती है... 

4 comments:

  1. Kaafi Acha Likha hai Supriyaa aapne, kripya likthe rahein ...shubh kamnayein :)

    ReplyDelete
  2. please kindly visit here to get more poems and post like your post.. http://smiteshmakwana.blogspot.com/ good job....

    ReplyDelete