Tuesday, March 3, 2015

ख़ामोशी...


 ख़ामोशियों की भी अपनी एक भाषा होती है,
कुछ ख़ामोशियाँ दिल की ज़ुबान बनके सब कुछ कह जाती है,
तो कुछ कानों में चुभती आवाज़ बन जाती है… 
कुछ ख़ामोशियाँ इज़हार का बहाना तो कुछ इंकार बन जाती है,
कभी प्यार में डूबी हुई, तो कभी रूठने का इशारा बन जाती है ख़ामोशी...
यूँ तो भाषा की परख रखने वाले पढ़ लेते है नज़रों को भी,
पर ख़ामोशी को पढ़ना भी तो, कभी कभी ज़रुरत बन जाती है… 
ज़रूरी नहीं ख़ामोशी का मतलब इकरार ही हो
बंद ज़ुबान से इंकार का पैग़ाम भी बन जाती है ख़ामोशी..........

No comments:

Post a Comment